सोमवार, 10 जनवरी 2011

Astitva

                   अस्तित्व
क्या तुम मुझे रोटी पर लगे पैथन समझते हो?
जब चाहा मेरे नाम की मुहर लगा
खुद अच्छे बन गए !
                    शायद, तुम्हें नहीं पता
                    जब लोई पैथन में लपेटकर
                                   बेली जाती है
                    तब सबसे अधिक दर्द
                                   पैथन को ही होती है
                   जो बेलन से गींज दी जाती है
                   फिर वह झड़कर 
                            चौकी के चारो ओर
                                   बिखर जाती है
                  और तुम्हें तुम्हारा अस्तित्व दे जाती है.
शायद, तुम्हें नहीं पता
जब पैथन झड़ने से बच जाती है
वह तवे पर रोटी से पहले
                    जलती है.
और तुम्हें जलाने से बचाती है.
                   शायद, तुम्हें नहीं पता 
                   रोटी से पेट भर जाता है
                   लेकिन पैथन 
                          बूहार कर फेंक दी जाती है.
सच सच बताना...
       क्या तुम  मुझे.... पैथन ही समझते हो?
             

3 टिप्‍पणियां:

  1. कविता बहुत पसन्द आई...क्या मैं इसका तेलुगु मे अनुवाद कर सकती हूं? भूमिका नामक मासिक पत्रिका केलिए इसका अनुवाद करना चाहूंगी.आपकी अनुमति चाहिए.

    शान्ता सुन्दरी

    उत्तर देंहटाएं
  2. I like your poem.Can I translate it into Telugu and get it published in a women's monthly,Bhumika?

    R.Santha Sundari

    उत्तर देंहटाएं